प्रेरणा :यू-ट्यूब से हुनर सीखकर खोला उद्योग

By Independent Mail | Last Updated: Mar 6 2018 12:20PM
प्रेरणा :यू-ट्यूब से हुनर सीखकर खोला उद्योग

इंडिपेंडेंट मेल, भोपाल। ये कहानी उज्जैन की है। ज्यादा दिन नहीं हुए जब नितिशा एवं उनके पति सौरभ के पास कोई काम नहीं था। वे विभिन्न प्राइवेट संस्थानों में चक्कर काट रहे थे और उनका मकसद था कि जीवन के गुजारे के लिए दोनों को नौकरी मिल जाए। अपनी जिंदगी की इसी कश्मकश के बीच उन्होंने नौकरी के बजाय खुद के पैरों खडा होने की ठानी। खुद का रोजगार शुरू तकरने की सोच रही नितिशा के दिमाग में एक दिन दोने-पत्तल के निर्माण कार्य में काम आने वाली सिल्वर शीट बनाने का विचार किया। नीतिशा ने देर नहीं की और यूटयूब पर जाकर तकनीक को समझा। पूंजी की आवश्यकता थी, इसलिए जिला हाथकरघा कार्यालय एवं बैंक से संपर्क किया। जिला हाथकरघा कार्यालय ने नितिशा और उनके पति की मदद करते हुए मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना के तहत सिल्वर पेपर क्राफ्ट शीट निर्माण के लिये मशीन, गोदाम और संपूर्ण व्यवस्था का एस्टीमेट बनाते हुए प्रोजेक्ट तैयार किया।

लोन ने बदली किस्मत

जिला प्रशासन एवं बैंक की पहल पर नितिशा नाटानी को 6 लाख 48 हजार रूपये का लोन मिल गया। इसमें दो लाख रूपये की मार्जिन मनी का लाभ भी उनको विभाग की मदद से दिलाया गया। इस योजना के तहत यदि बैंक ऋण समय पर चुकाया जाता है, तो ब्याज में पांच प्रतिशत की अतिरिक्त छूट भी दी जाती है। इस तरह प्रोजेक्ट सफल होने एवं समय पर किश्त भरने पर बैंक ब्याज केवल 6 प्रतिशत ही लगेगा। नितिशा और उसके पति सौरभ ने काम शुरू किया और देखते ही देखते उन्हें सफलता मिलने लगी।

हजारों की कमाई, अब नई यूनिट लगाने की तैयारी

नितिशा नाटानी एवं उनके पति सौरभ ने मिलकर इस काम को धीरे-धीरे बढ़ा लिया है। चार महीने बाद स्थिति यह है कि वे बगैर किसी बाधा के 13750 रूपए प्रतिमाह बैंक की किश्त चुका रहे हैं। यही नहीं उन्होंने अपने प्लांट में सात-सात हजार रूपए के तीन कारीगरों को रोजगार भी दे रखा हैं। इस व्यवसाय से नितिशा के परिवार को सारे खर्चे काटकर तकरीबन 30 हजार रूपए प्रतिमाह की आमदनी आसानी से हो रही हैं। अब उनका उज्जैन ब्रांड दोना पत्तल का कारोबार तेजी से तरक्की कर रहा हैं और प्रदेश के दूसरे शहरों सहित देश के अन्य शहरों से भी इन्हें ऑर्डर मिल रहे हैं। इस सफलता के बाद नितिशा ने इस कारोबार को आगे बढ़ाने क फैसला लिया है और वे अब अपनी उत्पादन क्षमता बढ़ाने की तैयारी कर रहे हैं।

image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved