शव को कफन के बदले बैनर में लपेट भेजा पोस्टमार्टम हाउस

By Independent Mail | Last Updated: Jan 29 2018 4:15PM
शव को कफन के बदले बैनर में लपेट भेजा पोस्टमार्टम हाउस

इंडिपेंडेंट मेल, दुमका। दुमका में एक बार फिर मानवता शर्मसार हुई। दुमका स्वास्थ्य विभाग ने एक मृत व्यक्ति को कफन के बदले प्रचार का बैनर में लपेट कर पोस्टमार्टम हाउस भेज दिया। परिजन के पास कफन के पैसे नहीं थे।

जबकि दुमका सदर अस्पताल 500 बेड का है और यहां मरीजों को शव को ढकने के लिए कफन भी नहीं मिलता है। मृतक युवक गोपीकांदर थाना क्षेत्र के दलदली गांव का रहने वाला बसंत देहरी था। शनिवार को एक सड़क दुर्घटना के बाद युवक इलाज के लिए दुमका सदर अस्पताल पहुंचा था। जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। मृतक के भाई के पास इतने पैसे नहीं थे कि उसे कफन दे पाते। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग ने इस शव को कफन के बदले स्वास्थ्य विभाग के प्रचार बैनर से ढक कर शव को स्ट्रेचर के जरिए पैदल पोस्टमार्टम हाउस पहुंचा कर अपना इतिश्री पूरी कर ली।
इधर स्वास्थ्य विभाग के इस कार्य को कई राजनीतिक दलों ने तीव्र आलोचना कर पूरे प्रकरण की जांच की मांग की है। कहा है कि भाजपा सरकार सिर्फ राज्य की जनता को स्वप्न दिखाती है,वास्तविक में यहां शव को कफन भी नसीब नहीं होती है। यहां बताते चले कि यह पहाड़िया जनजाति विलुप्त के कगार पर है और सरकार इन जातियों को बचाने के लिए प्रतिवर्ष करोड़ों रुपये पानी की तरह बहा रही है। लेकिन सरकार के मुलाजिम इन जाति के साथ कैसा व्यवहार कर रहे है। इस मामले में अस्पताल उपाधीक्षक दिलीप केशरी से पूछा तो उन्‍होंने मामले की जानकारी होने से इंकार कर दिया।
image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved