BDO समेत आधा दर्जन से अधिक अधिकारियों पर प्राथमिकी दर्ज

By Independent Mail | Last Updated: Feb 2 2018 9:05PM
BDO समेत आधा दर्जन से अधिक अधिकारियों पर प्राथमिकी दर्ज
इंडिपेंडेंट मेल, पाकुड़। जिले में मनरेगा घोटाले का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। सीएम के जनसंवाद में शिकायत के बाद लिट्टीपाड़ा में मनरेगा में गबन करने वाले आधा दर्जन से अधिक अधिकारियों पर बीडीओ ने विभिन्‍न धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज कराई है। पिछले मंगलवार को जनसंवाद में सीएम से सीधी बात में हुई सुनवाई के बाद मुख्यमंत्री रघुवर दास ने डीसी दिलीप कुमार झा को गबन करने वाले सभी अधिकारियों का निलबंन करते हुए प्राथमिकी दर्ज करने का फरमान जारी किया था।
 
मनरेगा योजना से साल 2014 में मेठ, अभिकर्ता और कनीय अभियंता की मिलीभगत से बगैर कार्य पूर्ण किए ही कार्य से अधिक राशि की निकासी कर ली गई थी। डीसी के आदेश पर 31 मई 2016 को इसकी जांच की गई। 
 
जांच रिपोर्ट में कहा गया कि योजना में विपत्र में 6 लाख 48 हजार बुक हुआ है लेकिन कार्य स्थल की जांच करने पर आंकलन के बाद 1 लाख 89 हजार अधिक निकासी करने की बात सामने आई। फिर डीसी ने डीडीसी को एफआईआर दर्ज कराने का आदेश दिया।
 
बीडीओ सत्यवीर रजक ने बाड़ु पंचायत में शहरपुर से चेकडैम नाला तक ग्रेड वन सड़क निर्माण के नाम पर सरकार की राशि गबन कर धोखाधड़ी की। अनियमितताओं को लेकर तत्कालीन बीडीओ, जेई बीपीआरओ नाजीर, रोजगार सेवक उपडाकपाल भेंडर एवं बिचैलियों के खिलाफ लिट्टीपाड़ा थाना में मामला दर्ज किया गया।
 
धारा 13 एन डी के तहत पूर्व बीडीओ राजीव कुमार मिश्रा, जेई प्रदीप कुमार टुडू, सूरज कुमार, प्रखण्ड पंचायती राज पदाधिकारी सुरेंन्द्र नारायण साह,उ पडाकपाल साइमन हांसदा, रोजगार सेवक मैमुर अली नाजीर, सेत चरण बेसरा, मेठ सनातन बास्की, अरविंद मंडल एवं मनरेगा मेटेरियल सप्लायर रक्षाकर साहा को नामजद अभियुक्त बनाया गया है।
 
image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved