छत्तीसगढ़ में प्रधानमंत्री और कांग्रेस अध्यक्ष की रैलियां

By Independent Mail | Last Updated: Nov 9 2018 11:35PM
छत्तीसगढ़ में प्रधानमंत्री और कांग्रेस अध्यक्ष की रैलियां

कांग्रेस नेता नक्सलियों को क्रांतिकारी कहते हैं: मोदी

रायपुर, जगदलपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को जगदलपुर में आयोजित अपनी पहली चुनावी सभा में कांग्रेस और नक्सलवाद पर हमला बोला। उन्होंने नक्सली हमलों का जिक्र करते हुए कहा कि नक्सलवादी खून बहाते हैं, जबकि कांग्रेस नेता नक्सलियों को क्रांतिकारी कहते हैं। शहरी नक्सलियों की संतान विदेशाें में पढ़ती है, जबकि वे आदिवासियों के मासूम बच्चों को बंदूक थमा देते हैं। इसके बाद मोदी ने जनता के साथ भावनात्मक लगाव स्थापित किया। उन्होंने कहा कि आज भी दूज है। मैं आज आप से कुछ मांगने आया हूं। छत्तीसगढ़ के विकास के लिए भाजपा को वोट दीजिए। डॉ. रमन सिंह की सरकार जनता की सरकार है। इसमें जनता ही सब कुछ है। सरकार जनता के हित में काम करती है। जनता और सरकार के बीच मे कोई नहीं है। छत्तीसगढ़ में प्रधानमंत्री की यह पहली रैली थी। जगदलपुर के लालबाग मैदान में प्रधानमंत्री ने कांग्रेस गरीबों और दलितों को वोट का खजाना मानती है। उसने आदिवासियों का मजाक उड़ाया, जबकि हमने अलग से आदिवासी मंत्रालय बनाया। उन्होंने कहा कि पांच राज्यों में चुनाव है और मेरा सौभाग्य है कि मां दंतेश्वरी की धरती से मुझे प्रचार प्रारंभ करने का मौका मिला। मोदी ने विकास के लिए बस्तर की जनता से फिर से साथ देने का आग्रह किया। इसके बाद प्रधानमंत्री ने रायपुर में भी एक रैली को संबोधित किया।

मायावती और जोगी की नहीं की चर्चा

 

प्रधानमंत्री ने कांग्रेस पर तो जमकर हमला बोला, लेकिन अपने भाषण में मायावती और अजीत जोगी की चर्चा नहीं की। बता दें कि छत्तीसगढ़ में अजीत जोगी की पार्टी छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस और मायावती की बीएसपी मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। राजनीति के जानकारों का अनुमान है कि इस गठबंधन से बीजेपी को फायदा होगा।

मोदी ने अरबपतियों का कर्ज माफ किया, गरीबों का नहीं: राहुल गांधी

पखांजूर, रायपुर। छत्तीसगढ़ में खनिज, वन और प्राकृतिक संपदा की कोई कमी नहीं है, लेकिन इसका लाभ यहां के निवासियों को नहीं मिल पाता, बल्कि इसका फायदा पीएम और सीएम के उद्योगपति मित्र उठाते हैं। यह बात कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को पखांजूर में आयोजित एक आमसभा में कही। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह कोई भी काम अपने चुनिंदा उद्योगपति मित्रों से पूछे बिना नहीं करते। यूपीए के शासनकाल में मनरेगा योजना को चलाने के लिए एक वर्ष में 35 हजार करोड़ रुपये खर्च होता था। इतने पैसों से लाखों परिवारों की रोजी-रोटी चलती थी, लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने चुनिंदा उद्योगपति मित्रों को फायदा पहुंचाने लिए तीन लाख 50 हजार करोड़ रुपये का कर्जा माफ कर दिया, जबकि मनरेगा का बजट कम कर दिया। उन्होंने कहा कि जितना कर्जा उद्योगपतियों का माफ किया गया है, उतने पैसों में कई साल तक मनरेगा योजना चलाई जा सकती थी।

उठाया राफेल का मुद्दा

राहुल गांधी ने जनसभा में राफेल विमान सौदे का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि देश की वायुसेना के लिए यूपीए सरकार ने राफेल विमान खरीदने का निर्णय किया था, प्रति विमान 526 करोड़ रुपये की दर से। मोदी की सरकार आते ही योजना को रोक दिया गया। अब फ्रांस की उसी कंपनी से मोदी 1600 करोड़ से अधिक की राशि देकर विमान खरीद रहे हैं। इन विमानों की मरम्मत का पूरा जिम्मा अंबानी की अनुभवहीन कंपनी को ठेके पर दिया गया है। उन्होंने यह भी कहा कि नीरव मोदी, मेहुल चौकसी और विजय माल्या जैसे उद्योगपति गरीब जनता के हजारों करोड़ रुपये लेकर विदेश भाग जाते हैं, लेकिन केन्द्र सरकार उन्हें नहीं रोकती।

image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved