किसानों की सूची जल्दी तैयार करें राज्य सरकारें

By Independent Mail | Last Updated: Feb 4 2019 11:23PM
किसानों की सूची जल्दी तैयार करें राज्य सरकारें

केंद्र सरकार ने सभी राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों से आग्रह किया है कि वे लघु एवं सीमांत किसानों की पहचान कर उनकी सूची तैयार करें, जिसमें उनके घर का पता भी दर्ज हो। यह आग्रह उचित है। इसका लक्ष्य अंतरिम बजट में घोषित प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ किसानों तक पहुंचाने का है। यदि उनकी पहचान हो जाए, तो सबके खाते में घोषित 6000 रुपये की पहली किश्त के रूप में 2000 रुपया आसानी से डाला जा सकता है। यह योजना एक दिसम्बर, 2018 से लागू हो चुका है, इसलिए मार्च के अंत तक इसकी पहली किश्त चुकाई जानी है। मोदी सरकार ने पहले के रिकॉर्ड के अनुसार अनुमान लगाया है कि ऐसे किसानों की संख्या अधिकतम 12 करोड़ हो सकती है। इसका ध्यान रखते हुए किसान सम्मान निधि के लिए 20 हजार करोड़ रुपया पहले ही आवंटित किया जा चुका है। बजट घोषणा के अनुसार प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत दो हेक्टेयर यानी पांच एकड़ तक की जमीन वाले किसानों को यह राशि मिलेगी। कृषि और भूमि राज्यों का विषय है। इस कारण इसकी सही जानकारी राज्य ही दे सकेंगे। केंद्र के साथ राज्य सरकारों की भी किसान कल्याण की अनेक योजनाएं हैं, जिनमें लघु एवं सीमांत किसानों को प्राथमिकता दी जानी है। कई बार ग्राम पंचायतों की कृपा से यह लाभ उचित व्यक्ति तक न पहुंचकर उनके पास चला जाता है, जो इसके हकदार नहीं होते। कृषि सचिव की ओर से राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों को जो पत्र लिखा गया है, उसमें किसान का नाम, लिंग और यह जानकारी मांगी गई है कि वे अनुसूचित जाति-जनजाति श्रेणी के तो नहीं हैं। इसे ग्राम पंचायत के नोटिस बोर्ड पर भी लगाया जाएगा, ताकि चालू वित्त वर्ष के दौरान जल्दी से जल्दी पैसों का वितरण किया जा सके। राज्य एवं केंद्रशासित प्रदेशों को राजनीति करने की जगह गंभीरता एवं तत्परता से इस काम को अंजाम देना चाहिए। अगर राज्य चाहें तो इसमें और भी कुछ कॉलम डाल सकते हैं। मसलन, किसान के पास बैंकों का कर्ज है या नहीं और अगर है तो कितना? किसानों के कर्ज को लेकर भी देश में ऐसा वातावरण बनाया गया है, मानो सभी किसान कर्ज लेकर ही खेती करते हैं। इस सूची के बाद कर्ज का सच भी सामने आ जाएगा। इसलिए राज्यों को यह काम जल्दी करना चाहिए।

  • राष्ट्रवादी विचारक सीमा शर्मा के ब्लॉग से...
image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved