आसान होनी चाहिए प्रत्यर्पण की प्रक्रिया

By Independent Mail | Last Updated: Feb 6 2019 10:13PM
आसान होनी चाहिए प्रत्यर्पण की प्रक्रिया

भारत में घपला-घोटाला या अन्य कोई अवैध-अनुचित काम कर विदेश में छिपने वालों को स्वदेश लाने के लिए कूटनीतिक गतिविधियों को गति देना समय की मांग है, लेकिन इसी के साथ उन उपायों पर भी गौर किया जाना चाहिए, जिससे प्रत्यर्पण में कम से कम समय लगे। यह इसलिए आवश्यक है, क्योंकि अधिकतर मामलों में विदेश में जा छिपे लोगों को भारत लाने में अधिक समय लग जाता है। नि:संदेह यह राहतकारी है कि ब्रिटेन के गृह मंत्री ने विजय माल्या को भारत प्रत्यर्पित करने की अनुमति दे दी, लेकिन अभी यह तय नहीं कि वह भारत के हाथ कब लगेगा। माल्या ब्रिटेन के गृहमंत्री के आदेश के खिलाफ वहां के हाईकोर्ट में अपील करेगा। यदि कोर्ट ने निचली अदालत के आदेश को सही पाया, तब जाकर उसका भारत आना सुनिश्चित होगा। हालांकि, इसके आसार न के बराबर हैं कि हाईकोर्ट निचली अदालत के आदेश में कोई हेरफेर करेगा, लेकिन अभी यह नहीं कहा जा सकता कि वह अपना फैसला कब सुनाएगा? देखना यह भी होगा कि हाईकोर्ट के आदेश के बाद विजय माल्या भारत आने से बचने के लिए कोई जतन करता है या नहीं?वह भारत आने से बचने के लिए किस्म-किस्म के बहाने गढ़ता रहा है। यही काम पीएनबी घोटाले के आरोपी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी कर रहे हैैं।जहां नीरव मोदी यह राग अलाप रहा है कि उसे भारत में खलनायक की तरह देखा जा रहा है, वहीं चोकसी यह बहाना बना रहा है कि वह एंटीगुआ से भारत तक का लंबा हवाई सफर नहीं कर सकता। इस तरह की बहानेबाजी को संबंधित देशों की अदालतें भी स्वीकार कर लेती हैं। यह एक तथ्य है कि ब्रिटेन की अदालतों ने भारत के वांछित कई तत्वों को इस आधार पर प्रत्यर्पित करने से मना कर दिया कि यहां की जेलों की दशा अच्छी नहीं है। एक ओर जहां ब्रिटेन जैसे देश हैैं, जहां का प्रत्यर्पण संबंधी तंत्र कुछ ज्यादा ही जटिल है, वहीं दूसरी ओर सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात जैसे देश हैं, जो वांछित शख्स की पहचान स्थापित होने पर ही उसे प्रत्यर्पित कर देते हैैं। इसके अतिरिक्त कुछ ऐसे भी देश हैैं, जो प्रत्यर्पण के मामले में मनमाना रवैया प्रदर्शित करते हैैं। इसीलिए अब प्रत्यर्पण की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर आवाज उठाई जाए, ताकि ऐसा कोई कानून बन सके, जिससे वांछित तत्व बहानेबाजी कर प्रत्यर्पण से बच न पाएं।

वरिष्ठ पत्रकार अजय शर्मा के ब्लॉग से...

image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved