अपनी मेहनत और प्रतिभा पर भरोसा करना सीखें

By Independent Mail | Last Updated: Nov 4 2018 11:04PM
अपनी मेहनत और प्रतिभा पर भरोसा करना सीखें

जिंदगी में किया गया कोई भी काम या मेहनत कभी बेकार नहीं जाती। हम जितनी मेहनत करते है, उसका प्रतिफल हमें किसी न किसी रूप में अवश्य मिलता है। फर्क केवल इतना है कि कुछ व्यक्ति इस बात पर विश्वास करते हैं कि मेहनत कभी बेकार नहीं जाती और अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए तब तक प्रयास करते रहते हैं, जब तक कि लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर लेते। वहीं कुछ व्यक्ति जल्दी ही हार मान लेते हैं और प्रयास करना बंद कर देते हैं। यही सफलता और असफलता के बीच का फर्क है जिसे हम विश्वास या आत्मविश्वास कह सकते हैं, क्योंकि सारा खेल विश्वास का ही है। विश्वास पत्थर को भगवान बना सकता है और अविश्वास भगवान के बनाए इन्सान को पत्थर दिल बना सकता है। मैंने जब से इस बात पर विश्वास करना शुरू किया है कि मेहनत कभी बेकार नहीं जाती, तब से मेरी मेहनत कभी बेकार नहीं गयी। इसी संदर्भ में एक कहानी भी है, कहानी नहीं, बल्कि सच्ची घटना।

महान वैज्ञानिक थॉमस एडिसन बहुत ही मेहनती एवं जुझारू प्रवृत्ति के व्यक्ति थे। बचपन में उन्हें यह कहकर स्कूल से निकाल दिया गया कि वह मंद बुद्धि बालक हैं, उन्हीं थॉमस एडिसन ने कई महत्वपूर्ण आविष्कार किए, जिसमें से बिजली का बल्ब प्रमुख है। उन्होंने बल्ब का आविष्कार करने के लिए हजारों बार प्रयोग किये थे, तब जाकर उन्हें सफलता मिली थी। एक बार जब वह बल्ब बनाने के लिए प्रयोग कर रहे थे, तभी एक व्यक्ति ने उनसे पूछा, आपने करीब एक हजार प्रयोग किए, लेकिन आपके सारे प्रयोग असफल रहे और आपकी मेहनत बेकार हो गई। क्या आपको दुःख नहीं होता? एडिसन ने कहा, मैं नहीं समझता कि मेरे एक हजार प्रयोग असफल हुए हैं। मेरी मेहनत बेकार नहीं गई, क्योंकि मैंने एक हजार प्रयोग करके यह पता लगाया है कि इन एक हजार तरीकों से बल्ब नहीं बनाया जा सकता। मेरा हर प्रयोग बल्ब बनाने की प्रक्रिया का हिस्सा है और मैं अपने प्रत्येक प्रयास के साथ एक कदम आगे बढ़ता हूं। अगर कोई सामान्य व्यक्ति होता, तो वह जल्द ही हार मान लेता, लेकिन थॉमस एडिसन ने अपने प्रयास जारी रखे और हार नहीं मानी। आखिरकार एडिसन की मेहनत रंग लायी और उन्होंने बल्ब का आविष्कार करके पूरी दुनिया को रोशन कर दिया। यह थॉमस एडिसन का विश्वास ही था जिसने आशा की किरण को बुझने नहीं दिया और पूरी दुनिया को बल्ब के द्वारा रोशन कर दिया। याद रखिएगा, मेहनत कभी बेकार नहीं जाती, यह विश्वास ही हमें आगे बढ़ने एवं निरंतर प्रयास करने के लिए प्रेरित करता है। हमारा हर प्रयास हमें एक कदम आगे बढ़ाता है और हम जैसे-जैसे आगे बढ़ते हैं, वैसे ही हमारे लिए सफलता के रास्ते खुलते जाते हैं। जो व्यक्ति विश्वास नहीं करता, वह ज्यादा देर तक प्रयास नहीं कर पाता और जब वह प्रयास नहीं करता, तो दूर से उसे आगे के सभी रास्ते बंद नजर आते हैं, क्योंकि सफलता के रास्ते हमारे लिए तभी खुलते हैं, जब हम उसके बिल्कुल करीब पहुंच जाते हैं। जो विश्वास नहीं कर पाते, वह रास्ते में थक जाते हैं और लौट आते हैं। अपनी मेहनत और प्रतिभा पर विश्वास करना सफलता की गारंटी है।

अज्ञात

image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved