भाजपा ने राहुल व वाड्रा पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया

By Independent Mail | Last Updated: Mar 14 2019 7:23AM
भाजपा ने राहुल व वाड्रा पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया

भाजपा ने राहुल व वाड्रा पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया

नई दिल्ली,  राफेल लड़ाकू विमान सौदा मामले की पृष्ठभूमि में, भाजपा ने बुधवार को पलटवार करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का हथियार कारोबारी संजय भंडारी के साथ संबंध जोड़ा और उनपर अपने परिवार के हित में काम करने का आरोप लगाया।

मीडिया को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने यह भी आरोप लगाया कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भी भूमि सौदा मामले में संलिप्त है, जिसकी जांच हरियाणा और राजस्थान में जांच एजेंसियों द्वारा की जा रही है।

ईरानी ने कहा, "इस बारे में हमारे देश में पता है कि भ्रष्टाचार का संस्थानीकरण करना कांग्रेस की प्रकृति है। कल सामने आई एक नई रिपोर्ट से राहुल-वाड्रा के गठजोड़ से भ्रष्टाचार के परिवारिक पैकेज का पता चला।"

उन्होंने कहा कि समाचार रिपोर्ट से उनके एच.एल.पहवा के साथ संबंध का पता चला है जो कि कथित रूप से सी.सी. थंपी के साथ जुड़ा हुआ था जिसके संजय भंडारी और राबर्ट वाड्रा दोनों से संबंध थे।

उन्होंने कहा, "राहुल ने महेश नागर के जरिए एच.एल. पाहवा से जमीन खरीदी। नागर ने हरियाणा और राजस्थान में जांच की जा रही भूमि खरीद मामले में भी वाड्रा का प्रतिनिधित्व किया था।"

ईरानी ने कहा कि पाहवा और वाड्रा के बीच संबंध को भी सामने लाए जाने की जरूरत है। समाचार रिपोर्ट में गांधी-वाड्रा परिवार के साथ वित्तीय व्यवस्था के लिए पाहवा की वित्तीय असमर्थता को भी रेखांकित किया गया है।

उन्होंने कहा, "इसलिए वित्तीय संबंध को समर्थन देने के लिए रिपोर्ट में बताया गया है कि पाहवा को पर्याप्त धन दिए गए और सी.सी. थंपी द्वारा उसे समर्थन दिया गया। जांच से थंपी और पाहवा के बीच 54 करोड़ रुपये के वित्तीय लेन-देन का पता चला है।"

उन्होंने कहा कि थंपी एक ऐसा नाम था जो संप्रग के कार्यकाल में न केवल पेट्रोलियम सौदे में सामने आया बल्कि भूमि लेन-देन मामले में वित्तीय उल्लंघन के रूप में भी सामने आया था।

उन्होंने कहा, "थंपी व हथियार कारोबारी संजय भंडारी के बीच संबंध जगजाहिर हैं। जैसा की आप पहले से जानते हैं कि संजय भंडारी के वाड्रा से संबंध रक्षा सौदे में जांच के घेरे में हैं।"

केंद्रीय मंत्री ने आरोप लगाया कि वाणिज्यिक संबंध केवल वाड्रा और संजय भंडारी के बीच मौजूद थे, लेकिन नए तथ्यों से राहुल गांधी और संजय भंडारी के भी संबंध का पता लगता है।

उन्होंने कहा, "इसलिए देश एक निष्कर्ष पर पहुंचा है कि देश की रक्षा तैयारियों में हस्तक्षेप करना न केवल उनके निजी राजनीति के लिए है बल्कि इसमें उनके वाणिज्यिक हित भी जुड़े हुए हैं।"

ईरानी ने आगे सवाल करते हुए कहा, "एक हथियार कारोबारी द्वारा वित्तपोषित जमीन को राहुल गांधी द्वारा क्यों खरीदा गया?"

उन्होंने कहा, "हम वाड्रा द्वारा उनके लिए शर्मिदगी पैदा करने की बात समझ सकते हैं, लेकिन आज राहुल ही खुद कांग्रेस के लिए एक बहुत बड़ी बाधा बन गए हैं। उन्हें जवाब देना होगा।"

image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved