भारत को मिला अमेरिकी अपाचे अटैक हेलिकॉप्‍टर, वायुसेना को मिलेगी ताकत

By Independent Mail | Last Updated: May 12 2019 9:29AM
भारत को मिला अमेरिकी अपाचे अटैक हेलिकॉप्‍टर, वायुसेना को मिलेगी ताकत

दुश्‍मन की किलेबंदी को भेदकर सटीक हमला करने में सक्षम

एजेंसी, वॉशिंगटन। भारतीय वायुसेना को मशहूर अपाचे अटैक हेलिकॉप्‍टर मिलना शुरू हो गया है। अमेरिकी कंपनी बोइंग निर्मित AH-64E अपाचे अटैक हेलिकॉप्‍टर दुनिया के सबसे आधुनिक और घातक हेलिकॉप्‍टर माने जाते हैं। अमेरिका के ऐरिजोना में भारतीय वायुसेना को पहला अपाचे हेलिकॉप्‍टर सौंपा गया। भारत ने अमेरिका से 22 अपाचे हेलिकॉप्‍टर खरीदने की डील की है। इस हेलिकॉप्‍टर के शामिल होने से भारत की दुश्मन के घर में घुसकर मार करने की क्षमता और बढ़ी है। अपाचे पहला ऐसा हेलिकॉप्‍टर है जो भारतीय सेना में विशुद्ध रूप से हमले करने का काम करेगा। भारतीय सेना रूस निर्मित एमआई-35 का इस्‍तेमाल वर्षों से कर रही है, लेकिन यह अब रिटायरमेंट के कगार पर है। अपाचे को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि दुश्‍मन की किलेबंदी को भेदकर और उसकी सीमा में घुसकर हमला करने में सक्षम है।

अपाचे युद्ध के समय गेम चेंजर

इससे पीओके में आतंकी ठिकानों को असानी से तबाह किया जा सकेगा। रक्षा विश्‍लेषकों का मानना है कि अपाचे युद्ध के समय 'गेम चेंजर' की भूमिका निभा सकता है। अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर की क्‍या है खासियत और यह कैसे काम करता है इसके बारे में जानते हैं। बोइंग एएच- 64 ई अमेरिकी सेना और अन्य अंतरराष्ट्रीय डिफेंस फोर्सेज के लिए सबसे अडवांस्ड लड़ाकू हेलिकॉप्टर है जो कि एक साथ कई कार्य करने में सक्षम है। इस हेलिकॉप्टर को अमेरिकी सेना के अडवांस्ड अटैक हेलिकॉप्टर प्रोग्राम के लिए बनाया गया था। इसने पहली उड़ान साल 1975 में भरी, लेकिन इसे अमेरिकी सेना में साल 1986 में शामिल किया गया। अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर में दो जनरल इलेक्ट्रिक टी 700 टर्बोशैफ्ट इंजन हैं और आगे की तरफ एक सेंसर फिट है जिसकी वजह से यह रात के अंधेरे में भी उड़ान भर सकता है। यह 365 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भरता है। इतनी तेज गति होने की वजह से यह दुश्मन के टैंकों के परखच्चे आसानी से उड़ा सकता है।

image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved