चुनाव लड़ने वाले कैंडिडेट का क्रिमिनल रिकॉर्ड वेबसाइट पर डालें पार्टी: सुप्रीम कोर्ट

By Independent Mail | Last Updated: Feb 13 2020 10:11PM
चुनाव लड़ने वाले कैंडिडेट का क्रिमिनल रिकॉर्ड वेबसाइट पर डालें पार्टी: सुप्रीम कोर्ट

 नई  दिल्ली , एजेंसी :राजनीति में बढ़ते अपराधीकरण के खिलाफ दाखिल एक याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने सभी राजनीतिक दलों के दागी कैंडिडेट को टिकट दिए जाने की वजह अपनी वेबसाइट पर बताने का आदेश दिया है। साथ ही यह  भी आदेश जारी किया कि क्रिमिनल बैकग्राउंड वाले उम्मीदवारों को वो टिकट क्यों दे रहे हैं, इसकी वजह बतानी होगी और जानकारी वेबसाइट पर देनी होगी।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सियासी दलों को वेबसाइट, न्यूजपेपर और सोशल मीडिया पर यह बताना होगा कि उन्होंने ऐसे उम्मीदवार क्यों चुनें जिनके खिलाफ आपराधिक मामले लंबित हैं।  सुप्रीम कोर्ट को यह तय करना था कि क्या राजनीतिक दलों को ऐसे लोगों को चुनाव के टिकट देने से रोकने का निर्देश दिया जा सकता है, जिनका आपराधिक पृष्ठभूमि हो। 

जस्टिस आर एफ नरीमन और एस रविंद्र भट की बेंच ने इसके साथ ही कहा कि सभी पार्टियों को अपने उम्मीदवारों का क्रिमिनल रिकॉर्ड आधिकारिक फेसबुक और ट्विटर हैंडल पर अपलोड करना होगा. शीर्ष अदालत ने कहा है कि अगर इस आदेश का पालन नहीं किया गया तो राजनीतिक दलों के खिलाफ अवमानना की कार्रवाई की जा सकती है.

बीजेपी नेता अश्विनी उपाध्याय ने सुप्रीम कोर्ट से मांग की थी कि कोर्ट चुनाव आयोग को निर्देश दे कि वह राजनीतिक दलों पर दबाव डाले कि राजनीतिक दल आपराधिक पृष्ठभूमि वाले नेताओं को टिकट न दें। ऐसा होने पर आयोग राजनीतिक दलों के खिलाफ कार्रवाई करे।

image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved