विधायकों-सांसदों की अयोग्यता: सुप्रीम कोर्ट ने संसद को पुनर्विचार करने को कहा . .

By Independent Mail | Last Updated: Jan 23 2020 12:57PM
विधायकों-सांसदों की अयोग्यता: सुप्रीम कोर्ट  ने संसद को पुनर्विचार करने को कहा . .

 नई दिल्ली, एजेंसी : सांसदों और विधायकों को अयोग्य घोषित करने के मामले में सुप्रीम कोर्ट  ने कई सख्त टिपण्णियां की है. इसके साथ कोर्ट ने संसद को सलाह दी है कि वह इस मामले में सदन के स्पीकर की शक्तियों पर दोबारा विचार करे. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि स्पीकर एक राजनीतिक दल का सदस्य होता है. फिलहाल वह सांसदों और विधायकों को अयोग्य घोषित करने के लिए प्राधिकारी है, लेकिन वह महीनों-महीनों ऐसे मामले को अटकाए रखते हैं. ऐसे में उसका फैसला निष्पक्ष नहीं हो सकता है.

सर्वोच्च न्यायालय ने अपने फैसले में कहा कि अध्यक्ष  अयोग्य घोषित वाले करने याचिका पर अनिश्चितकाल के लिए नहीं बैठ सकता है।  उचित समय के भीतर अध्यक्ष द्वारा त्वरित निर्णय करना  आवश्यक है। पीठ ने कहा कि अध्यक्ष को अयोग्य ठहराए जाने वाली याचिकाओं पर तीन महीने के भीतर फैसला करना चाहिए।

मणिपुर से कांग्रेस विधायक फ़ज़ूर रहीम और के. मेघचंद्र, मंत्री श्यामकुमार को अयोग्य घोषित करने के मामले पर सुप्रीम कोर्ट गए. इसके बाद यह मुद्दा सुप्रीम कोर्ट में आया. श्यामकुमार कांग्रेस के टिकट पर 11 वीं मणिपुर विधानसभा के लिए चुने गए थे, लेकिन उन्होंने पार्टी बदल ली और भाजपा में शामिल हो गए. इसके बाद वह मंत्री बन गए.

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को मणिपुर के स्पीकर से चार हफ्ते में केस का फैसला करने को कहा. अगर स्पीकर चार हफ्ते में फैसला नहीं लेते हैं तो याचिकाकर्ता फिर से सुप्रीम कोर्ट आ सकते हैं.

image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved