एडवेंचर से भरपूर है गुवाहाटी से तवांग का रोड ट्रिप

By Independent Mail | Last Updated: Sep 28 2018 10:45PM
एडवेंचर से भरपूर है गुवाहाटी से तवांग का रोड ट्रिप

एडवेंचर के साथ कुछ हटकर करने वालों के लिए गुवाहाटी से तवांग का रोड ट्रिप रहेगा बेस्ट। जहां एन्जॉयमेंट के साथ बहुत सारी नई चीजें देखने को मिलेंगी। हां, लेकिन इस सफर की शुरूआत से पहले दो बातों का जान लेना जरूरी है। पहली यह कि अरुणाचल प्रदेश में आने के लिए भारतीयों से लेकर विदेशियों तक को इनर लाइन परमिट की जरूरत होती है। बिना इसके आप यहां नहीं जा सकते और दूसरी बात यह कि गुवाहाटी से तवांग की दूरी 510 किमी है जो एक-दो रातों का ब्रेक लिए बगैर कवर कर पाना मुश्किल है। बर्फ से ढ़के रास्ते, दूर-दूर नजर आते घास के मैदान, जमी हुई झील, नदियों का कल-कल बहता पानी, ओरांग और नामेरी नेशनल पार्क जैसे कई खूबसूरत नजारे आपको इस सफर के दौरान देखने को मिलेंगे। अरुणाचल प्रदेश की ये दोनों ही जगहें गुवाहाटी और तवांग लोगों की पसंदीदा जगहों में शामिल हैं। गुवाहाटी से तवांग के सफर में आप सबसे पहले तेजपुर पहुंचते हैं जो यहां का बहुत ही पुराना शहर है लेकिन यहां घूमने-फिरने के आॅप्शन्स की कोई कमी नहीं। अग्निगढ़, कोल पार्क, भैरवी मंदिर, दा पर्बतिया, क्रिश्चियन सीमेटरी, बामुनी हिल्स यहां देखने लायक जगहें हैं। तो तेजपुर में एक दिन रूक कर आप इन सारी जगहों को कवर कर सकते हैं। तेजपुर से 60 किमी का सफर तय करके आप पहुंचते हैं भालुकपोंग। यहां तक पहुंचने में आपको तकरीबन दो घंटे का समय लगता है। भालुकपोंग बहुत छोटा सा शहर है। जहां इनर लाइन परमिट चेक किया जाता है। और फिर यहां से होती है तवांग के खूबसूरत सफर की शुरूआत। भालुकपोंग से 97 किमी का सफर तय करने के बाद आप पहुंचेंगे बोमडिला। जहां की खूबसूरती आपको मंत्रमुग्ध कर देगी। बोमडिला में मोनेस्ट्री और ईगलनेस्ट वाइल्डलाइफ सेंचुरी घूमने का के लिए थोड़ा समय जरूर निकाल लें। बोमडिला में रातभर का ब्रेक ले सकते हैं। बोमडिला से कोशिश करें सुबह-सुबह निकलने का, क्योंकि रोड ट्रिप के लिए ये समय एकदम परफेक्ट होता है। यहां से 43 किमी की दूरी पर है दिरांग वैली। हरे-भरे पहाडों और घाटियों वाली ये जगह आपके ट्रिप को बनाती है और भी शानदार। हालांकि बोमडिला से दिरांग और दिरांग से तवांग का सफर थोड़ा मुश्किल और थकान भरा होता है। लेकिन जैसे ही आप तवांग शहर पहुंचेंगे यहां की खूबसूरती आपकी सारी थकान दूर कर देती है। रंग-बिरंगी तवांग मोनेस्ट्री, गोरीचेन पीक और नूरानांग वॉटरफॉल्स यहां के पॉप्युलर ट्रैवल डेस्टिनेशन्स हैं।

कब जाएं

गुवाहाटी से तवांग जाने का सही समय मार्च से अक्टूबर होता है। क्योंकि सर्दियां शुरू होते ही यहां की सड़कें बर्फ से ढ़क जाती हैं। जिसमें ड्राइव करना मुश्किल होता है।

किन चीजों की करें पैकिंग

राइडिंग जैकेट, गलव्स, राइडिंग पैंट्स और बूट्स, टॉवल, टिश्यू पेपर, फर्स्ट एड किट और कैमरा। तवांग का मौसम ज्यादातर सर्द होता है इसलिए गर्म कपड़े जरूर साथ रखें।

image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved