आसान तरीकों से पाएं पैर और पिंडली के दर्द से छुटकारा

By Independent Mail | Last Updated: Apr 3 2019 9:42PM
आसान तरीकों से पाएं पैर और पिंडली के दर्द से छुटकारा
आजकल की व्यस्त और भाग-दौड़ भरी दिनचर्या में मांसपेशियों में खिंचाव होना एक आम समस्या है। इसके कारण पैरों में और पिंडलियों में दर्द होता है। पैरों और पिंडलियों में दर्द की समस्या रात के वक्त अधिक होती है। यह समस्या उन लोगों को अधिक होती है जो डेस्क जॉब करते हैं और व्यायाम बिल्कुल नहीं करते हैं। अगर आप भी इस समस्या से ग्रस्त हैं तो कुछ बातों का ख्याल रखकर दर्द से आसानी से छुटकारा पा सकते हैं।
पानी पीना है जरूरी
  • पानी हमारी मांसपेशियों में नमी को बनाएं रखने में मदद करता है। इसकी कमी से मांसपेशियों में जकड़न, दर्द आदि हो सकता है, जो वर्कआउट के दौरान बाधा बन सकता है। इसके अलावा पानी शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करता है। इसके लिए छोटे व्यायाम सत्र में थोड़ा-थोड़ा कर पानी पीएं। आपको दिन में भी थोड़ा-थोड़ा पानी पीते रहने की आदत डालनी चाहिए खासतौर पर सोने से पहले।
तेल से मालिश करें
  • मालिश करने से मांसपेशियों में रक्त परिसंचरण बढ़ जाता है और मांसपेशियों को गर्माहट मिलती है। साथ ही यह तरल पदार्थों को भी दूर करता है, जबकि तेल मांसपेशियों के दर्द से राहत दिलाता है। कई प्रकार के तेल जैसे पाइन, लैवेंडर, अदरक और पिपरमेंट आदि के तेल की मालिश से मांसपेशियों का दर्द कम होता है और सूजन भी गायब होती है।
एक्सरसाइज भी है जरूरी
  • रक्त की आपूर्ति की कमी से मांसपेशियों में कड़ापन आने से उनमें दर्द होने लगता है। नियमित एक्सरसाइज से इस समस्या से बचा जा सकता है। नियमित व्यायाम करने से रक्त वाहिनियों की सक्रियता बरकरार रहती है। नियमित व्यायाम भले ही लोगों को महत्वपूर्ण न महसूस हो, लेकिन इसकी वजह से रक्त की आपूर्ति को निर्बाध बनाए रखने में बहुत मदद मिलती है।
लाल मिर्च से होता है लाभ 
  • लाल मिर्च में कैप्सैसिन होता है जो जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द में आराम पहुंचाता है। आप इसका पेस्ट बनाकर दर्द वाली जगह पर लगा सकते हैं। पेस्ट बनाने के लिए आधा टेबल स्पून लाल मिर्च को जैतून के तेल (गुनगुना) या नारियल के तेल में मिलाएं और प्रभावित स्थान पर लगाएं, दो मिनट के बाद धो डालें।
प्रोटीन 
  • मांसपेशियों के निर्माण और मरम्मत के लिए प्रोटीन बहुत जरूरी होता है। प्रोटीन की कमी से भी मांसपेशियों में दर्द होने लगता है। भारी-भरकम शारीरिक गतिविधियों के बाद शरीर में ऊर्जा के स्तर को बनाए रखने के लिए मांसपेशियों को प्रोटीन की जरूरत होती है। ऐसे में प्रोटीनयुक्त प्राकृतिक खाद्य उत्पादों का सेवन करना चाहिए। इसके लिए आप अपने आहार में अंडे, चिकन, मछली, स्प्राउट्स और दालें आदि को शामिल करें।
हीट थेरेपी 
  • हीट थेरेपी का प्रयोग मोच, ऐंठन, मांसपेशियों में जकड़न आदि के उपचार में किया जाता है। केवल गंभीर चोटों में हीट थेरेपी करें, क्योंकि इसके कारण सूजन बढ़ भी सकती है। हालांकि गर्मी से मांसपेशियों के दर्द में आराम मिलता है। मांसपेशियों की जकड़न कम होती है।
स्ट्रेचिंग
  • मांसपेंशियों में तनाव संबंधी समस्याओं के उपचार का सबसे असरदार तरीका है स्ट्रेचिंग। वे मांसपेशियां जो ज्यादा मजबूत और लचीली होती हैं, उनमें चोट लगने की संभावना कम होती है।
image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved