बच्चे को ब्रश कराने का सही तरीका और सही उम्र क्या है, जानें

By Independent Mail | Last Updated: Feb 9 2019 10:03PM
बच्चे को ब्रश कराने का सही तरीका और सही उम्र क्या है, जानें

जब बात छोटे बच्चों की देखभाल और साफ-सफाई की आती है तो उसमें ओरल हाइजीन यानी मुंह की सफाई का भी विशेष ध्यान रखना पड़ता है। ऐसे में पहली बार मां बन रहीं महिलाओं के मन में अक्सर यह सवाल होता है कि आखिर किस उम्र में उन्हें बच्चों को ब्रश कराना शुरू करवाना चाहिए और आखिर शिशु को ब्रश करवाने का सही तरीका क्या है? तो अगर आपके मन में भी इस तरह का कोई सवाल है या फिर कोई कन्फ्यूजन है तो यह आर्टिकल आपके लिए ही है...

डेढ़ साल के बाद ही ब्रश इंट्रोड्यूस करें

आमतौर पर नवजात शिशु में 6 महीने की उम्र के बाद दांत निकलने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि दांत निकलने के साथ ही आप बच्चे को ब्रश करवाने लगें। बच्चा जब तक साल-डेढ़ साल का न हो जाए उसे ब्रश बिलकुल न करवाएं। ऐसा इसलिए क्योंकि शिशु के मसूड़े बेहद कोमल और मुलायम होते हैं और सालभर से पहले ब्रश का इस्तेमाल करने से शिशु के मसूड़ों को नुकसान पहुंच सकता है। साल-डेढ़ साल का हो जाने के बाद अगर आपके बच्चे के मुंह में नीचे-ऊपर कई दांत आ गए हों तो आप बच्चे को ब्रश इंट्रोड्यूस करवा सकती हैं।

दिन में 2 बार ब्रश करने की आदत डालें

डेढ़ साल की उम्र के बच्चे को आप आसानी से दिन में दो बार ब्रश करने की आदत डाल सकती हैं। भले ही आपका बच्चा छोटा हो और डेढ़ साल का न हुआ हो, लेकिन तब भी बच्चे के मसूड़े और जीभ की साफ-सफाई हर दिन करना बेहद जरूरी है। इससे बच्चा फ्रेश महसूस करेगा और उसे खाने की इच्छा होगी। इसके लिए बच्चे का मुंह खोलें और फिर नर्म सूती कपड़े को गुनगुने पानी में भिगोकर उसी से बच्चे का मसूड़े और जीभ साफ कर दें। इस प्रक्रिया में देखना ये होगा कि कहीं शिशु के मुंह में ज्यादा रगड़ न पड़ जाए।

ऐसे चुनें बच्चे का टूथब्रश 

  • बच्चे का ब्रश खरीदते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि वह कलरफुल हो, ताकि बच्चा उसकी तरफ अट्रैक्ट हो।
  • बच्चे का टूथब्रश बेहद नर्म और मुलायम होना चाहिए, ताकि मसूड़ों को नुकसान न हो।
  • बच्चे के लिए फ्लोराइड मुक्त टूथपेस्ट का चयन करें।
  • प्रत्येक 3 महीने के बाद बच्चे के टूथब्रश को बदल देना चाहिए।
  • बच्चे के मुंह में जोर से रगड़कर साफ करने की बजाए हल्के हाथों से ब्रश को घुमाएं।
  • शुरुआत में बच्चे को रोज एक निश्चित स्थान पर बिठाकर ब्रश करवाएं, इससे वो सुबह जगते ही ब्रशिंग के लिए खुद को रेडी कर लेगा।
  • रात में खाना खाने या दूध पीने के बाद भी बच्चे को ब्रश जरूर करवाएं। इससे दातों में सड़न की समस्या नहीं होगी।
image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved