जिम में एक घंटा पसीना बहाने की बजाए, 15 मिनट सीढ़िया चढ़ना है फायदेमंद

By Independent Mail | Last Updated: Jan 6 2019 5:54PM
जिम में एक घंटा पसीना बहाने की बजाए, 15 मिनट सीढ़िया चढ़ना है फायदेमंद

कम समय में पूरी बॉडी का मसल्स वर्कआउट करना चाहते हैं, तो सीढ़ियां चढ़ना सबसे बेहतर ऑप्शन है। छह हजार लोगों के बीच में करवाए गए एक सर्वे में यह बात निकलकर आई है कि एक घंटे तक जिम में पसीना बहाने से आपको उतना ही फायदा मिल पाता है, जितना 15 मिनट सीढ़ियां चढ़ने से। सर्वे की मानें तो आप अगर रोजाना केवल एक मंजिल सीढियां चढ़कर अपने घर या ऑफिस जाते हैं, तो वह आपके आधे किलोमीटर ट्रेडमील पर चलने के बराबर हो जाता है। वहीं, अगर आप 2-3 बार सीढ़ियां चढ़ उतर लेते हैं, तो आपकी बॉडी को इसके बाद जिम जाने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी।

मिलती है इंस्टेंट एनर्जी

  • सीढ़ियां चढ़ने से शरीर में तुरंत एनर्जी आ जाती है, जो जिम में पांच से सात मिनट कसरत करने के बाद ही आती है, वो भी तब जब आप तेज स्पीड से कसरत करें। इतना ही नहीं सीढ़ियां चढ़ना हार्ट और लंग्स के लिए भी जिम से ज्यादा फायदेमंद हैं। फिजियोथेरपिस्ट डॉ. रोहित कहते हैं, सीढ़ियां चढ़ना नैचुरल एक्सरसाइज है। अगर आप यह रोजाना कर पाते हैं, तो आपकी थाई तो शेप में रहती ही है, मसल्स भी फ्लेक्सेबिल हो जाती हैं। यही नहीं, ओवरऑल फिटनेस के लिए भी सीढ़ियां चढ़ना बेहद फायदेमंद है। इसके बाद आप जोड़ों की प्रॉब्लम, बोन पेन जैसी चीजों से बचे रहेंगे।

हॉर्मोन को करें एक्टिव

  • सीढ़ियां चढ़ने से एड्रेनलिन हॉर्मोन एक्टिव हो जाता है। यह हॉर्मोन हार्ट की मसल्स तक ब्लड सर्कुलेशन बनाए रखने और हार्ट बीट नॉर्मल रखने के लिए बहुत जरूरी होता है।

बॉडी मसल्स की टोनिंग

  • ऊपर चढ़ने के दौरान जब बॉडी का 70-85 डिग्री का एंगल बनता है, तो यह पॉश्चर लोअर बॉडी के लिए और 135 डिग्री का एंगल अपर बॉडी के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह एक कारगर कार्डियो वर्कआउट भी साबित हो सकता है। एक घंटे के भीतर इससे लगभग 700 कैलोरी बर्न की जा सकती है। वहीं यदि आप ट्रेडमिल पर एक घंटा दौड़ेंगे, तो इससे मात्र 300 कैलरी ही बर्न होगी।

मेंटल हेल्थ को सपोर्ट

  • सीढ़ियां चढ़ना एक ऐसी एक्टिविटी है जिससे मसल्स में फैट इक नहीं हो पाता और शरीर शेप में रहता है। यह टेंशन कम करने के साथ व्यक्ति की एकाग्रता को भी बढ़ाता है। इसको रेग्युलर करने से मेंटल हेल्थ को भी सपोर्ट मिलता है और रोजमर्रा के काम करने के लिए फोकस करने में मदद मिलती है।

रूटीन का हिस्सा बनाएं

  • कई बार लोग पहले ही दिन से अधिक चढ़ने की कोशिश करते हैं, जिससे थकान और टांगों में दर्द हो सकता है। इसलिए एक ही दिन में तीन-चार मंजिल सीढ़ी चढ़ने की बजाए धीरे-धीरे समय को बढ़ाएं। सीढ़ियां चढ़ना तभी फायदेमंद हो सकता है अगर आप इसे नियमित रूप से करें। 15 दिन या एक महीने कर आप इसे छोड़ दें तो आपको इसका कोई फायदा नहीं मिलेगा, इसलिए इसे अपनी रूटीन का पार्ट बनाएं। शुरू में एक बार और फिर तीन बार और फिर इसे रोजाना करें।

12 से 70 साल तक कर सकते हैं

  • इसे 12 साल के बच्चे से लेकर 70 साल के बुजुर्ग तक कर सकते हैं। इसमें पूरी तरह से व्यक्ति को अपनी एनर्जी लेवल का उपयोग करना होता है। इसके लिए न तो कोई खर्च करने जरूरत है और न ही किसी इंस्ट्रयूमेंट की जरूरत है। इससे भी अधिक इस व्यायाम का फायदा यह है कि इसे हार्ट पेंशेट और डायबिटीज रोगी सभी आसानी से कर सकते हैं। हालांकि हार्ट पेशेंट को हेवी एक्सर्साइज न करने की सलाह दी जाती है, पर धीरे-धीरे सीढ़ियां चढ़ना हर किसी रोगी के लिए परफेक्ट एक्सरसाइज है।
image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved