अगले छह माह तक आरबीआई से पैसे की जरूरत नहींः जेटली

By Independent Mail | Last Updated: Nov 25 2018 12:43AM
अगले छह माह तक आरबीआई से पैसे की जरूरत नहींः जेटली

मुंबई। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने विपक्ष के उस आरोप को खारिज किया है, जिसमें कहा गया है कि केंद्र सरकार की नजर आरबीआई के रिजर्व पर है। उन्होंने कहा कि केंद्र को अपनी योजनाओं की फंडिंग के लिए अगले छह महीने तक आरबीआई से एक पैसे की जरूरत नहीं है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि कुछ आर्थिक क्षेत्रों में परेशानी है, जिसे सरकार आरबीआई के सामने उठाने से नहीं चूकेगी। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि सरकार आरबीआई की स्वायत्तता का सम्मान करती है। यह बात जेटली ने एक समाचार चैनल को दिए साक्षात्कार में कही है।

विपक्ष का आरोप

हालांकि, आरबीआई बोर्ड की बैठक के बाद सरकार और बैंक का विवाद सुलझ गया है, लेकिन विपक्ष का आरोप है कि सरकार आरबीआई का रिजर्व फंड हासिल करना चाहती है। कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दल यह आरोप तभी से लगा रहे हैं, जब से सरकार और आरबीआई में तनातनी प्रारंभ हुई थी। कुछ अर्थशास्त्रियों ने भी सरकार पर आरबीआई की स्वयत्तता को चोट पहुंचाने का आरोप लगाया है।

आरबीआई के पास कितना रिजर्व

इस वर्ष 30 जून को आरबीआई ने अपनी बैलेंस शीट में 36.17 लाख करोड़ रुपये मूल्य की संपत्ति का जिक्र किया था। इसका 27 फीसद हिस्सा उसके पास नकदी के रूप में मौजूद बताया जाता है। सरकार चाहती है कि वह केवल 14 प्रतिशत अपने पास रखे, जबकि 13 फीसद बैंकों को दे। अगर सरकार की बात उसने मान ली, तो उसे पांच लाख करोड़ रुपये बाहर निकालने होंगे। बता दें कि ब्रिटेन और अमेरिका के केंद्रीय बैंक अपनी कुल संपत्ति का 13-14 फीसद ही नकदी के रूप में रखते हैं, जबकि आरबीआई के पास 27 फीसद नकदी है, जो ज्यादा है।

image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved