ईरान से कच्चा तेल खरीद सकेगा भारत

By Independent Mail | Last Updated: Nov 2 2018 10:58PM
ईरान से कच्चा तेल खरीद सकेगा भारत

एजेंसी, नई दिल्ली। भारत, जापान और दक्षिण कोरिया समेत आठ देशों के ईरान से तेल आयात करने के फैसले के आगे अमेरिका झुक गया है। अब ये देश ईरान से तेल खरीद सकेंगे। भारत चीन के बाद ईरान के तेल का दूसरा सबसे बड़ा खरीदार है। हालांकि, पहले कहा जा रहा था कि भारत ईरान से अपने कच्चे तेल के आयात को 2017-18 में 2.26 करोड़ टन सालाना (452,000 बैरल प्रति दिन) से 1.5 करोड़ टन प्रति वर्ष (3,00,000 बैरल प्रति दिन) तक सीमित करने के लिये तैयार हो गया है। लेकिन मोदी सरकार ने साफ किया कि उसका झुकने का कोई इरादा नहीं है।

ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध लागू

डोनाल्ड ट्रंप ने सत्ता में आने के बाद उस समझौते को भंग कर दिया था जो बराक ओमाबा के शासनकाल में ईरान और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पांच स्थाई सदस्य देशों के बीच हुआ था। इसके तहत ईरान ने परमाणु बम बनाने का संकल्प लिया था और विदेशी प्रतिनिधियों को अपने परमाणु ठिकानों की इजाजत दे दी थी। इसके बाद ईरान पर एक दशक से जारी आर्थिक प्रतिबंधों को अमेरिका ने हटा लिया था। लेकिन ट्रंप प्रशासन ने इस संधि को भंग कर दिया और ईरान पर आर्थिक प्रतिबंध लगा दिए। यह प्रतिबंध चार नवंबर से लागू हो जाएंगे। इन्हीं के तहत अमेरिका दूसरे देशों पर ईरान से तेल न खरीदने का दबाव बना रहा है।

चीन को भी छूट मिलने की उम्मीद

हालांकि, अभी इस पर असमंजस है कि अमेरिका ने जिन आठ देशों को ईरान से तेल खरीदने की अनुमति दी है, उनमें चीन शामिल है या नहीं। वह चीन ही है जो ईरान से सबसे ज्यादा तेल खरीदता है। हालांकि, चीन और अमेरिका के बीच ईरान से तेल खरीद की छूट की शर्तों पर बातचीत जारी है। चीन को उम्मीद है कि उसे भी छूट मिलेगी। ट्रंप प्रशासन के एक सीनियर अधिकारी ने अमेरिकी मीडिया को जानकारी दी है कि चीन को बहुत तगड़ी शर्तों के साथ ही ईरान से तेल खरीदने की छूट दी जाएगी।

शर्तों का खुलासा नहीं

जिस तरह ईरान से तेल खरीद की छूट पाने वाले आठ में से चार देशों के नामों का खुलासा नहीं हो पाया है, उसी तरह इस पर भी पर्दा पड़ा हुआ है कि भारत को यह छूट सशर्त दी गई है या बिना शर्त? यह भी साफ नहीं है कि भारत समेत ये आठ देश ईरान से कितना तेल खरीद पाएंगे? हालांकि, सूत्रों का दावा है कि ये आठों अमेरिका के बहुत करीबी देश हैं, जिन्हें नाराज करने का जोखिम ट्रंप नहीं उठाएंगे।

image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved