'पीएचई शुद्ध पानी की आपूर्ति पर ध्यान दे'

By Independent Mail | Last Updated: Aug 12 2018 7:58PM
'पीएचई शुद्ध पानी की आपूर्ति पर ध्यान दे'

एजेंसी, बिलासपुर। कलेक्टर पी.दयानंद ने बारिश के मौसम में डेंगू के प्रकोप को लेकर नगर निगम और पीएचई को दिशा-निर्देश जारी किये हैं। कलेक्टर ने निगम के अधिकारियों को साफ-सफाई और मच्छरों को खत्म करने के लिए शहर के विभिन्न हिस्सों में फॉगिंग के निर्देश दिये हैं। उन्होंने पीएचई के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा है कि पेयजल के लिए सप्लाई होने वाले पानी की शुद्धता का विशेष ध्यान रखें। उन्होंने बताया कि जिला चिकित्सा अधिकारी से प्राप्त प्रतिवेदन के अनुसार डेंगू के दो मामले सामने आये थे। दोनों मरीज उपचार के बाद स्वस्थ्य हो चुके हैं। दयानंद ने जिले के नागरिकों से अपील की है कि घरों के आसपास, अंदर, गार्डन में, कूलर में पानी जमा न होने दें। जमा होने वाले पानी को प्रतिदिन साफ करें। डेंगू के मच्छर पानी के स्त्रोतों में जैसे नालियों, गड्ढों, पुराने टॉयर और ऐसे ही अन्य वस्तुओं में जहां पानी ठहरता हो वहां पैदा होते हैं। यदि संभव हो तो खिड़कियों व दरवाजों पर जाली लगाकर मच्छरों को घर में आने से रोकें। अपने घर के आसपास जंगली घास और झाडिय़ां न होने दें। एडीस मच्छर दिन में ही काटता है इसलिए इसकी बचाव के लिए आवश्यक सावधानियां बरतें। डेंगू बुखार में अचानक ठंड लगने के साथ तेज बुखार चढ़ता है। सिर, मांसपेशियों तथा जोड़ों में दर्द होता है। शरीर पर लाल रैसेज निकल आते हैं। डेंगू के लक्षण लगने पर तुरन्त नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में जाकर इलाज कराया जा सकता है। घर पर भी प्राथमिक चिकित्सा के तौर पर स्वास्थ्य कर्मचारी के सलाह पर पैरासिटामाल की गोली से बुखार कम किया जा सकता है। यदि बुखार अधिक है तो बुखार कम करने के लिए शरीर में गीली पट्टी रखी जा सकती है।

image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved