'बजट-सत्र' हंगामेदार होने के आसार

By Independent Mail | Last Updated: Feb 11 2019 12:32AM
'बजट-सत्र' हंगामेदार होने के आसार
  • कानून-व्यवस्था व भ्रष्टाचार के मुद्दे पर सरकार को घेरने की तैयारी

एजेंसी, पटना। सोमवार से शुरू होने वाला बिहार विधानमंडल का बजट सत्र राज्य की कानून-व्यवस्था तथा आमजन की समस्या को लेकर हंगामेदार रहेगा। नवनिर्मित सेंट्रल हाल में संयुक्त अधिवेशन में राज्यपाल लालजी टंडन के सम्बोधन के साथ शुरू हो रहे इस सत्र में विपक्ष ने राज्य की गिरती कानून-व्यवस्था और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर सरकार को घेरने की पूरी तैयारी कर रखी है। कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता सदानंद सिंह ने रविवार को बातचीत में कहा कि राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति चरमरा गई है और विपक्ष एकजुट होकर इसे सदन में और सदन के बाहर उठाएगा।

किसानों को करना पड़ रहा परेशानी का सामना

किसानों की समस्याओं की चर्चा करते हुए सिंह ने कहा कि सरकार के स्तर पर किसानों के धान की अधिप्राप्ति नहीं हुई है, जिससे किसानों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने माना कि राज्य में सूखे की स्थिति होने के कारण धान का उत्पादन कम हुआ है फिर भी जितना भी उत्पादन किसानों के पास हुआ है उसकी भी अधिप्राप्ति सरकारी स्तर से ठीक से नहीं हो सकी है। मुजफ्फरपुर बालिका गृह काण्ड पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा बिहार सरकार को फटकार लगाई गई और सभी मामलों को दिल्ली के पोक्सो कोर्ट में स्थानांतरित किये जाने के सन्दर्भ में सरकार की नाकामी और निष्क्रियता तथा पारदर्शी तरीके से काम नहीं करने के कारण न्यायालय को इसमें हस्तक्षेप करना पड़ा।

सरकार पेश करेगी 13वीं आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट

सिंह ने कहा कि राज्य सरकार की नाकामयाबी और निष्क्रियता तथा पारदर्शी तरीके से काम नहीं करने के मुद्दे पर भी विपक्ष सरकार को सदन में घेरेगा। इसके अलावा आशा कार्यकर्ताओं, आंगनबाड़ी सेविकाओं के मुद्दे को भी उठाने की विपक्ष तैयारी कर रहा है। हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा गरीब सवर्णों को दिए गए 10 प्रतिशत आरक्षण का मुद्दा भी बजट-सत्र में गूंजेगा। सोमवार से शुरू होकर 20 फरवरी तक चलने वाले बजट-सत्र में वर्ष 2019-20 के लिए राज्य का बजट पेश करने के साथ-साथ सरकार बिहार की 13वीं आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट भी पेश करेगी।

image
Copyrights @ 2017 Independent NewsCorp (P) Ltd., Bhopal. All Right Reserved